Home » मध्य प्रदेश » अनूपपुर » भोपाल : वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के तल्ख रवैए से नौकरशाही सकते में

भोपाल : वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के तल्ख रवैए से नौकरशाही सकते में

बात नहीं सुनते तो हटा दो कलेक्टर को : मुख्यमंत्री
दुकानों में गड़बड़ी का मामला, अशोक नगर कलेक्टर ने कहा- मैं छुट्‌टी पर था सीएम बोले- तो एडिशनल कलेक्टर को हटा दो

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के तल्ख रवैए ने नौकरशाही को सकते में डाल दिया। शुक्रवार को कॉन्फ्रेंस शुरू होने के बाद मुख्यमंत्री एक-एक करके हर जिले व मामले की समीक्षा कर रहे थे, तभी अशोकनगर की बात आई। मुख्यमंत्री को बताया गया कि तीन उचित मूल्य की दुकानों पर एफआईआर दर्ज कराने को लेकर कलेक्टर आरबी प्रजापति ने गैरजिम्मेदाराना काम किया है। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि कलेक्टर नहीं सुन रहे तो उन्हें हटा दो। इसी बीच जिला पंचायत सीईओ से बात कर रहे शिवपुरी कलेक्टर राजीवचंद्र दुबे को भी खरी-खोटी सुननी पड़ी। मुख्यमंत्री यहीं नहीं रुके, राजधानी में सिटी बस में रेप की घटना को भी उन्होंने शर्मनाक बताते हुए भोपाल एसएसपी डॉ. रमन सिंह सिकरवार को जमकर फटकारा। अशोकनगर कलेक्टर प्रजापति ने सफाई दी कि वे डेढ़ माह से छुट्टी पर थे तो मुख्यमंत्री ने कहा- ‘एडिशनल कलेक्टर को हटा दो।’ दरअसल खाद्य विभाग के प्रमुख सचिव अशोक वर्णवाल ने तीन दुकानों की गड़बड़ी पकड़े जाने पर जिला प्रशासन से कहा था कि उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जाए। शेष | पेज 15 पर
एक दुकान पर दर्ज हुई, लेकिन दो दुकानों के मामले में डेढ़ माह की देरी कर दी गई। दोनों दुकान वाले स्टे ले आए। यही जानकारी वर्णवाल ने मुख्यमंत्री को दी थी, जिसके बाद मुख्यमंत्री नाराज हो गए। जाति और आय प्रमाण-पत्रों को लेकर हो रही दिक्कतों पर भी उन्होंने अधिकारियों को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि इसी रवैये के कारण इस बार जिला पंचायतों के सीईओ को भी वीडियो कांफ्रेंस में बुलाया गया है। नए-नए सीईओ हैं। मेहनत नहीं करोगे तो आगे के कैरियर का क्या होगा? उन्होंने यह भी कहा कि कई पटवारी अपने हलके से 10 से लेकर 50 किमी दूर रहते हैं। जब मेरे पास यह जानकारी है तो कलेक्टर क्या कर रहे हैं? उनके पास कोई जानकारी नहीं है। जल्द ही इस व्यवस्था को दुरुस्त करें। समग्र को लेकर फिर मुख्यमंत्री नाराज हुए। उन्होंने कहा कि पेंशनरों की राशि वितरण में हर जगह असंतोष दिख रहा है।
– अपराधियों में खौफ नहीं है, क्या ऐसे चलेगी कानून व्यवस्था?
भोपाल में सिटी बस में हुई रेप की घटना पर मुख्यमंत्री ने कहा कि अपराधियों में खौफ हो तो वह अपराध करने से पहले सौ बार सोचता है। यह शर्म की बात है कि राजधानी में इतनी बड़ी घटना हो गई। जब मुख्यमंत्री यह बोल रहे थे, तब भोपाल का प्रशासनिक अमला चुप्पी साधे रहे। राजधानी के एसएसपी को जवाब तक नहीं सूझा। मुख्यमंत्री ने कहा कि ईमानदारी पर फूल जैसा और अपराधियों के साथ वज्र जैसा व्यवहार करो।

– मेरे पास हर कलेक्टर की खबर है
पहली बार वीडियो कांफ्रेंसिंग में मुख्यमंत्री ने कड़े तेवर दिखाते हुए कहा कि जिले में क्या गलतियां हो रही हैं और कौन लेट-लतीफी कर रहा है, इसकी रिपोर्ट मेरे पास है। लगातार आ भी रही है। अब हर माह कलेक्टर दौरे करेंगे और शासन को बताएंगे कि एक माह में उन्होंने क्या काम किया?
– बाद में तीखा बोलने पर भी सफाई दी
वीडियो कांफ्रेंस के दौरान तीखा बोलने पर दो बार मुख्यमंत्री ने सफाई दी। उन्होंने कहा कि मैं तीखा नहीं बोलना चाहता था, लेकिन आज मन की बात कर रहा हूं। मंतव्य को समझो

Check Also

भोपाल विमान हादसा

बड़ा हादसा टला: भोपाल में एयर इंडिया विमान का टायर फटा

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में बुधवार सुबह दिल्ली से भोपाल आ रहे एयर इंडिया …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *