Home » राष्ट्रीय समाचार (Hindi News) » Tik Tok वीडियो बनाने में बंदूक का इस्तेमाल पड़ रहा है जान पर भारी, अब बरेली में 18 साल के लड़के की मौत

Tik Tok वीडियो बनाने में बंदूक का इस्तेमाल पड़ रहा है जान पर भारी, अब बरेली में 18 साल के लड़के की मौत

नई दिल्ली: सोशल मीडिया एप टिक टॉक ने कुछ ही सालों में पूरी दुनिया में अपनी पकड़ मज़बूत कर ली है. इस वक्त इसे दुनियाभर में 50 करोड़ से भी ज्यादा लोग इस्तेमाल कर रहे हैं. भारत में भी इस वीडियो एप का ज़बरदस्त क्रेज़ है. बड़े बड़े सितारे भी इस प्लेटफॉर्म पर अपनी मौजूदगी दर्ज करा रहे हैं.

इस एप से सिर्फ खुशियां मिल रही हों ऐसा नहीं है, बल्कि ऐसे कई मामले भी सामने आ चुके हैं, जब टिक टॉक वीडियो बनाने के चक्कर में नौजवान अपनी जान तक गंवा दे रहे हैं. नौजवान मशहूर होने के लिए खरतनाक स्टंट को अंजाम देने से भी बाज़ नहीं आते. ऐसे में कई बार यूज़र हादसे का भी शिकार हो जाते हैं. पिछले साल पाकिस्तान में भी एक 16 साल का लड़का बंदूक लेकर टिक टॉक वीडियो बना रहा था, लेकिन गलती से गोली चल गई और उसकी सांसें वहीं थम गईं.

अब बरेली में एक 18 साल के लड़के को टिक टॉक वीडियो बनाने में बंदूक का इस्तेमाल करना भारी पड़ गया है. ये वाकया सोमवार का बताया जा रहा है. लड़के ने ज़िद करके अपनी मां से टिक टॉक वीडियो बनाने के लिए रिवॉल्वर मांगी, लेकिन उसकी मां को कहां पता था, कि वो अपने बेटे की मौत की वजह को खुद उसके हाथों में थमा रही है.

लड़के का नाम केशव है. वो एक सैन्यकर्मी का बेटा था. इस वक्त वो इंटरमीडियट की पढ़ाई कर रहा था. केशव की मां सावित्री ने बताया कि उनके बेटे ने ज़िद करके टिक टॉक वीडियो बनाने के लिए रिवॉल्वर अलमारी से निकलवाई थी. लेकिन उनको नहीं पता था कि वो लोडेड है.

पुलिस ने बताया कि सावित्री किसी काम से कमरे से बाहर गई और कुछ देर बाद गोली चलने की आवाज़ आई. जब सावित्री और परिवार वाले दौड़कर कमरे में पहुंचे, तो नज़ारा देखकर सभी दंग रह गए. केशव खून से लथपथ ज़मीन पर पड़ा था. उसकी कनपटी में गोली लगी थी. आनन फानन में घरवाले उसे अस्पताल ले गए जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया.

CAA-NRC: जब कोर्ट ने कहा कि जामा मस्जिद पाकिस्तान में नहीं!!

Published: 14 Jan 2020 07:01 PM

Check Also

delhi-elections:-सोनिया-गांधी-के-घर-cec-की-बैठक-शुरु

Delhi Elections: सोनिया गांधी के घर CEC की बैठक शुरु

PLAYLIST UP में 10 IPS अधिकारियों के तबादले CAA Protest: शाहीनबाग और प्रयागराज के बाद …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *