Home » खेल » मैनचेस्टर टेस्ट में टीम इंडिया को मिली शर्मनाक हार और कप्तान के बोल बचन
मैनचेस्टर टेस्ट में टीम इंडिया को मिली शर्मनाक हार और कप्तान के बोल बचन

मैनचेस्टर टेस्ट में टीम इंडिया को मिली शर्मनाक हार और कप्तान के बोल बचन

अच्छा हुआ मैनचेस्टर 3 दिन में हार गए, अब 2 दिन आराम करेंगे: धोनी
मैनचेस्टर: इंग्लैंड के खिलाफ चौथे टेस्ट मैच में भारतीय टीम चारों खाने चित हो गई. इंग्लैंड ने भारत को पारी और 54 रनों से हराकर 5 मैचों की सीरीज में 2-1 की बढ़त ले ली है. लेकिन हार के इस जख्म पर कप्तान धोनी के बयान ने और नमक छिड़क दिया है.
धोनी ने कहा है कि तीसरे दिन ही मैच हारने से हमें आराम के लिए दो दिन एक्स्ट्रा मिल गए.
मैनचेस्टर टेस्ट में टीम इंडिया को मिली शर्मनाक हार के बाद खिलाड़ी, कप्तान और कोच पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर और पूर्व विकेटकीपर फारूक इंजीनियर के निशाने पर रहे. गावस्कर ने ओल्ड ट्रैफर्ड में चौथे टेस्ट में पारी की शर्मनाक हार के लिए भारतीय क्रिकेटरों को फटकार लगाते हुए कहा कि उन्होंने इंग्लैंड की टीम को टक्कर देने का जज्बा नहीं दिखाया. वहीं इंजीनियर ने टीम के साथ-साथ कोच डंकन फ्लेचर की आलोचना की और भारतीय टीम की हार को ‘शर्मनाक’ बताया.

गावस्कर ने बीबीसी रेडियो के टेस्ट मैच स्पेशल में कहा, ‘‘भारत ने कोई जज्बा नहीं दिखाया.’’ उन्होंने कहा, ‘‘भारतीय खिलाड़ियों ने कोई प्रतिबद्धता नहीं दिखाई. वह आसानी से आउट हुए और बहुत अच्छी गेंदों पर आउट नहीं हुए. इंग्लैंड ने सिर्फ लगातार लय में गेंदबाजी की.’’ क्रिकेट इतिहास के महानतम सलामी बल्लेबाजों में शामिल गावस्कर ने कहा, ‘‘आप देख सकते हैं कि एक बार निराश होने के बाद उनमें संघर्ष करने का कोई जज्बा नजर नहीं आता.’’

पूर्व भारतीय विकेटकीपर फारूख इंजीनियर ने भी भारतीय क्रिकेटरों की आलोचना करते हुए कहा कि वे बिना किसी ‘जुनून’ के खेल रहे थे और उन्होंने संघर्ष करने के लिए कोई जज्बा नहीं दिखाया.

उन्होंने ‘भारी भरकम वेतन’ पाने वाले कोच डंकन फ्लेचर की भी इसलिए आलोचना की कि उन्होंने कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को टॉस जीतकर पहले क्षेत्ररक्षण करने की सलाह नहीं दी.

भारतीय टीम टॉस जीतकर गुरुवार को मैनचेस्टर टेस्ट में जब पारी की शुरुआत करने उतरी तो आठ रन बनाने में उसके चार विकेट गिर चुके थे और पूरी टीम पहली पारी में 152 रनों पर और दूसरी पारी में 161 रनों पर धराशायी हो गई.

इंजीनियर ने कहा, “भारतीय टीम बिना किसी परिणाम का परवाह किए खेल रही थी.”
इंजीनियर ने हालांकि भारत की हार के लिए पूरी तरह भारतीय प्रदर्शन को जिम्मेदार ठहराने के अंपायरों के गलत फैसलों को भी निशाने पर लिया.
इंजीनियर ने कहा, “डीआरएस प्रणाली न अपनाने का भी भारत को काफी नुकसान हुआ है, क्योंकि अंपायरों द्वारा लिए गए कई गलत निर्णय भारत के खिलाफ गए. मुझे नहीं पता वे कब जागेंगे. उन्हें डीआरएस प्रणाली अपनानी चाहिए.”

भारतीय क्रिकेट के भविष्य के कप्तान के तौर पर देखे जा रहे विराट कोहली की भी इंजीनियर ने तीखी आलोचना की.

उन्होंने कहा, “विराट कोहली इस दौरे पर काफी प्रतिष्ठित अंदाज में आए और उनसे सभी को काफी उम्मीदें थीं, लेकिन वह अपेक्षानुरूप प्रदर्शन नहीं कर सके. विराट ने बेहद मामूली गेंदों पर घटिया शॉट खेलते हुए अपने विकेट गंवाए. मैच बचाने का प्रयास करते हुए विराट रन आउट होने जैसी मूर्खता तक करते हैं.”

Review Overview

User Rating: Be the first one !

Check Also

हॉकी वर्ल्ड लीगः बेल्जियम ने भारत को 4-0 से धोया

हॉकी वर्ल्ड लीगः बेल्जियम ने भारत को 4-0 से धोया

एंटवर्प। फ्लोरेंट वैन एवुबेल की शानदार हैट्रिक की मदद से बेल्जियम ने शुक्रवार को हॉकी …