Home » अध्यात्म » सदैव कुछ बातें हमेशा छिपाकर रखे, कभी भी किसी को भी न बताये

सदैव कुछ बातें हमेशा छिपाकर रखे, कभी भी किसी को भी न बताये

हमें नितांत निजी बातों को सदैव छिपाकर ही रखना चाहिए।

सदैव कुछ बातें हमेशा छिपाकर रखे, कभी भी किसी को भी न बताये

यदि दूसरों को बता दी जाती हैं तो भविष्य में परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। यहां जानिए 7 ऐसी बातें, जिन्हें गुप्त रखना चाहिए

सदैव कुछ बातें हमेशा छिपाकर रखे, कभी भी किसी को भी न बताये
सदैव कुछ बातें हमेशा छिपाकर रखे, कभी भी किसी को भी न बताये
1. अपमान: यदि किसी वजह से हमें अपमान का सामना करना पड़ा हो तो इस बात को गुप्त रखना फायदेमंद होता है। यदि दूसरों को यह मालूम होगा की हमें अपमान का सामना करना पड़ा है तो लोग हमारा मजाक बना सकते हैं।

2. धन लाभ-हानि: आज के समय में धन को किसी भी व्यक्ति की शक्ति का पैमाना माना जाता है। अधिकांश परिस्थितियों में धन के आधार पर ही रिश्ते निभाए जाते हैं और मित्रता की जाती है। अत: यदि हमें कभी भी धन हानि का सामना करना पड़े तो इस बात को गुप्त रखना चाहिए। धन हानि की बात दूसरों को बता दी जाएगी तो कई लोग हमसे दूरियां बढ़ा लेंगे। धन हानि से उबरने के लिए धन की आवश्यकता होती है, इस बात के जाहिर होने पर कोई धन की मदद भी नहीं करेगा। साथ ही, यदि हमारे पास बहुत सारा धन है तो इस बात को भी गुप्त रखना चाहिए।

3. पारिवारिक झगड़े: अधिकांश परिवारों में वाद-विवाद होते रहते हैं, ये बहुत ही आम बात है, लेकिन आपसी झगड़े घर के बाहर किसी को भी नहीं बताने चाहिए। ऐसा करने पर समाज में परिवार की प्रतिष्ठा कम होती है। परिवार का अहित चाहने वाले लोग हमारे आपसी झगड़े से लाभ उठा सकते हैं।

4. मंत्र जाप: गुरु द्वारा दिए गए मंत्र को गुप्त रखना चाहिए। गुरु मंत्र, तब ही सिद्ध होते हैं, जब इन्हें गुप्त रखा जाता है। मंत्रों को गुप्त रखने पर जल्दी ही शुभ फल प्राप्त होते हैं।

5. दान धर्म: गुप्त दान का विशेष महत्व बताया गया है। ऐसा माना जाता है कि जो लोग गुप्त रूप से दान करते हैं, उन्हें अक्षय पुण्य के साथ ही देवी-देवताओं की कृपा से सभी सुख-सुविधाएं प्राप्त होती हैं। दूसरों को बता-बताकर दान करने पर पुण्य प्राप्त नहीं हो पाता है।

6. पद-स्थान: यदि हम किसी बड़े पद पर हैं और समाज में हमें बहुत मान-सम्मान प्राप्त होता है तो इस बात को भी गुप्त रखना चाहिए। किसी अन्य व्यक्ति के सामने इस बात को जाहिर करेंगे तो इससे अहंकार का भाव पैदा होता है। अहंकार पतन का कारण बनता है और इससे हमारी प्रतिष्ठा कम हो सकती है।.

7. स्त्री-पुरुष सम्बन्ध: स्त्री-पुरुष को रतिक्रिया के समय एकांत का विशेष ध्यान रखना चाहिए। इस कर्म से जुड़ी बातें भी गुप्त रखनी चाहिए। यदि ये बातें दूसरों को मालूम हो जाती हैं तो यह हमारे चरित्र और सामाजिक जीवन के लिए अच्छा नहीं होता है।

सदैव कुछ बातें हमेशा छिपाकर रखे, कभी भी किसी को भी न बताये

User Rating: Be the first one !

Check Also

सोमवार से पितर: जानिए पितृपक्ष के बारे में

सोमवार से पितर: जानिए पितृपक्ष के बारे में

सोमवार से पितृपक्ष, जिसे महालय व गरू दिन भी कहते हैं की शुरुआत हो गयी। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × two =