Home » Hindi Samachar » चीन में घबराहट : भारत-अमेरिका-जापान का बंगाल की खाड़ी में संयुक्त युद्धाभ्यास

चीन में घबराहट : भारत-अमेरिका-जापान का बंगाल की खाड़ी में संयुक्त युद्धाभ्यास

चीन में घबराहट : भारत-अमेरिका-जापान का बंगाल की खाड़ी में संयुक्त युद्धाभ्यास
चीन में घबराहट : भारत-अमेरिका-जापान का बंगाल की खाड़ी में संयुक्त युद्धाभ्यास

मालाबार(बंगाल की खाड़ी) में भारत, अमेरिका और जापान के संयुक्त युद्धाभ्यास से चीन घबराहट में है। चीन के एक अंग्रेजी अखबार ने ‘मालाबार युद्धभ्यास’ पर एक रिपोर्ट प्रकाशित करते हुए कहा है यह युद्धभ्यास चीन की सुरक्षा के लिए खतरा है। हालांकि चीनी विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को भारत से अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि उन्हें इस युद्धभ्यास पर उन्हें कोई ऐतराज नहीं है लेकिन उन्हें आशा है कि यह सब क्षेत्र की शांति के लिए होगा।
सोमवार को चीन के एक सरकारी अंग्रेजी अखबार के खबर में चीन की घबराहट  साफ तौर पर देखी जा रही है। अखबार ने लिखता है कि इतने बड़े पैमाने पर युद्धाभ्यास करने से चीन के साथ बने व्यापारिक संबंध को खतरे में डाल सकता है। इतना ही नहीं यह चीन की सुरक्षा के लिए भी खतरा साबित हो सकता है।
चीन अखबार ने लिखा है कि चीन जब डोकलाम सड़क बनाना चाहता है तो भारत इसका यह कहकर विरोध करता है कि यह उसकी सुरक्षा के लिए खतरा हो सकता है। लेकिन अब चीन को खुद सोचना होगा कि भारत की ओर से आयोजित किए जा रहे बड़े पैमाने पर युद्धाभ्यास से उसकी सुरक्षा के लिए खतरा है।
चीनी मीडिया ने लिखा है कि तीन देशों की नेवी द्वारा किया जा रहा यह अब तक का सबसे बड़ा युद्धाभ्यास है। बंगाल की खाड़ी आयोजित हो रहे 10 दिवसीय इस युद्धाभ्यास को चीनी मीडिया ने अपने देश के लिए बड़े खतरे का संकेत बताया है। चीनी अखबार में यह भी लिखा है कि अमेरिका ने भारत को युद्धक सामग्री ले जाने वाले लड़ाकू विमान देने की स्वीकृति दे दी है। भारत ये लड़ाकू विमान 365 अरब डॉलर में खरीद रहा है और साथ ही अमेरिका 2 अरब डॉलर में भारत को कई टोही ड्रोन भी देने जा रहा है। अब चीन को अपनी सुरक्षा की चिंता करने की जरूरत है।

Check Also

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आईपीपीबी) अप्रैल 2018 तक डाक घरों में डिजिटल भुगतान उपलब्ध

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आईपीपीबी) अप्रैल 2018 तक डाक घरों में डिजिटल भुगतान उपलब्ध

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आईपीपीबी) विस्तार कार्यक्रम की प्रगति लगातार तेज बनी हुई है और …

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

eighteen − 5 =