Home » Hindi Samachar » ट्रेन हादसा : एक ही वक़्त में दो ट्रेनों के हादसे, हादसा एमपी हरदा जिले में हुआ

ट्रेन हादसा : एक ही वक़्त में दो ट्रेनों के हादसे, हादसा एमपी हरदा जिले में हुआ

रेन हादसा : एक ही वक़्त में दो ट्रेनों के हादसे, हादसा एमपी हरदा जिले में हुआ
एक ही वक़्त में दो ट्रेनों के हादसे से देश सदमे में है। हादसा एमपी के हरदा में हुआ है, लेकिन पटना और बनारस में मातम है। एक ट्रेन जहां पटना से रवाना हुई थी तो दूसरी ट्रेन बनारस में आ रही थी।
मध्यप्रदेश में हरदा के पास बड़ा ट्रेन हादसा हुआ है। हरदा स्टेशन के पास खिड़कियां-भिरंगी स्टेशन के बीच कामायनी एक्सप्रेस और जनता एक्सप्रेस की 10 बोगियां पटरी से उतर गईं जिसमें अब तक 25 लोगों की मौत की पुष्टि हो गई है।
इस हादसे में कामायनी एक्सप्रेस और जनता एक्सप्रेस के 10 डिब्बे पटरी से उतर गए। ये हादसा एक ही जगह हुआ है, लेकिन दोनों ट्रेनें अलग अलग ट्रैक पर हादसे की शिकार हुई है।
मरने वालों में 12 महिलाएं और 6 बच्चे शामिल हैं। कई लोग घायल बताए जा रहे हैं।
रेल मंत्री सुरेश प्रभु संसद में बयान देंगे। लेकिन इस हादसे के बाद राजनीति गरमाई है। कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने सुरेश प्रभु का इस्तीफा मांग है।
इस बड़े हादसे से मौक-ए-वारदात से आठ मिनट पहले दो ट्रेनें सुरक्षित गुजरी थीं। अचानक बाढ़ आने या बांध से छोड़े गए पानी के आने से हादसे की आशंका जताई जा रही है।
राहत और बचाव काम पूरा हो गया। कामायनी एक्सप्रेस को आगे के लिए रवाना कर दिया है, जबकि जनता एक्सप्रेस को पूरी तरह से खाली करा लिया गया है। सरकार ने मरने वालों को दो लाख रुपये मुआवजे की राशि देने का एलान किया है। घायलों को 50 हज़ार रुपये दिए जाएंगे।
हादसे का शिकार हुई जनता एक्सप्रेस ट्रेन 3 अगस्त को पटना के राजेंद्र नगर रेलवे स्टेशन से चली थी। इस ट्रेन को मुंबई जाना था लेकिन मध्यप्रदेश के हरदा के पास खिडकियां और भिरंगी स्टेशन के बीच हादसे का शिकार हो गई। पटना में अधिकारियों का कहना है कि इस ट्रेन में करीब 1600 यात्री रहे होंगे। पटना के लिए 6 बोगियां रिजर्व हैं यानी स्लीपर क्साल में पटना से करीब 300 यात्री उस ट्रेन पर सवार हुए होंगे।
जब ये हादसा हुआ तब रात थी, भारी बारिश और बाढ़ के कारण रेस्क्यू टीम को आने में देरी भी हुई, लेकिन स्थानीय लोगों ने हादसे के शिकार लोगों को बचाने में बड़ा अहम रोल अदा किया। आधी रात को स्थानीय लोगों ने बहुत सारे मुसाफिरों को बचाया और सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया।
रेलवे के आला अधिकारियों को कहना है कि सुबह 7।30 बजे तक बोगियों में फंसे सारे यात्रियों को निकाल लिया गया। हादसे की चपेट से बाहर रहीं बोगियों को इटारसी के लिए रवाना कर दिया है। तीन स्पेशल ट्रेनों से डॉक्टरों और रेस्क्यू टीम को मौक-ए-वारदात पर लाया गया है।