Home » स्वास्थ्य » डाले आदत - रोज सुबह टहलें » रोज टहलना (वॉकिंग)- #GoodHealth #Morringwalk #PapayaLeaf

रोज टहलना (वॉकिंग)- #GoodHealth #Morringwalk #PapayaLeaf

टहलने से पहले हल्का खाना जरूर खाएं और टहलने जाने से पहले या बाद में खूब सारा पेय पदार्थ लें। इससे शरीर में पानी की कमी नहीं होगी। शुरूआत में धीरे-धीरे 5 मिनट और फिर अगला 5 मिनट तेज से टहलें। खुद को बहुत ज्यादा न थकाएं और ध्यान रखें अगर आपको छाती में दर्द या अन्य किसी तरह की तकलीफ हो रही है तो टहलना तुरंत रोक दें और डॉक्टर से बात करके ही इसे फिर से शुरू करें।
टहलना (वॉकिंग) एक अच्छा विकल्प है।
बढ़ती उम्र की महिलाओं के लिए स्वास्थप्रद हर रोज कम से कम 6000 कदम चलना बढ़ती है। एक अध्ययन में इससे मधुमेह और हृदय रोग का खतरा कम होने का पता चला है। पूर्व में किए गए अध्य्यनों के मुताबिक नियमित व्यायाम से मधुमेह, हृदय रोग और उच्च रक्तचाप के खतरे कम होते हैं। वहीं ताजा अध्ययन से पता चला है कि रोजमर्रा की गतिविधियों से शरीर की सक्रियता भी महिलाओं के स्वास्थ्य की दृष्टि से लाभदायक है।अपनी सेहत सुधारने के लिए, चुस्त-दुरुस्त रहने के लिए, वजन नियंत्रित करने के लिए या फिर बीमारी के बाद फिर से स्वस्थ होने के लिए टहलना बहुत जरूरी है। यह एक ऐसा व्यायाम है जिसे बच्चे, बड़े या बूढ़े सभी कर सकते हैं। ज्यादातर लोगों को नहीं मालूम कि किस तरह का व्यायाम उनके स्वास्थ्य और जीवनशैली के लिए सही है।
लेकिन टहलना एक ऐसा व्यायाम है जो कोई भी और कभी भी कर सकता है। यह एक बढिय़ा कार्डियोवैस्क्यूलर व्यायाम है जिसकी सलाह डॉक्टर भी देते हैं। टहलने से दिल और फेफड़े स्वस्थ रहते हैं, साथ ही शरीर का वसा भी कम होता है। यही नहीं, टहलने से मांसपेशियों में ताकत बढ़ती है और हड्डियां मजबूत होती हैं। पीठ दर्द की शिकायत वाले लोगों को टहलने से राहत मिलती है और रक्त संचार बेहतर होता है। साथ ही इससे संक्रमण और उच्च-रक्तचाप का खतरा कम होता है और शरीर में अच्छे कॉलेस्ट्रॉल की मात्रा भी बढ़ती है।जानकार मानते हैं कि सुबह-सुबह टहलने से अच्छा कुछ भी नहीं होता। टहलने के दौरान शरीर में एंडोरफिन हार्मोन उत्सर्जित होता है जो एक प्राकृतिक दर्द निवारक है और इससे शरीर को अच्छा एहसास होता है। टहलने से दिल की बीमारियों का खतरा भी कम होता है।
दरअसल टहलने के दौरान शरीर में ऑक्सीजन की जरूरत बढ़ जाती है। इससे दिल की कसरत होती है और दिल का दौरा पडऩे का खतरा भी कम होता है।रोजाना आधे से एक घंटा टहलने से पेट की बीमारियां, कमर का दर्द, झुकने और उठने की दिक्कतें दूर होती हैं। यही नहीं इससे शरीर अच्छे आकार में रहती है और जल्दी थकान नहीं होती है। इससे शरीर की मुद्रा सुधारने में भी मदद मिलती है।
रोजाना टहलने के साथ ही यह भी ध्यान में रखें कि टहलने से पहले हल्का फुल्का जरूर खाएं। टहलने जाने से पहले या बाद में खूब सारा पेय पदार्थ लेनें से शरीर में पानी की कमी नहीं होगी। और इसमें पपीता के पत्ते का जूस कम से कम 20 से 30ml लेने से इसके अनेको-एक फायदे जानें!

फायदे हैं तमाम